बहुत पहले कैफ़ी आज़मी की चिंता रही, यहाँ तो कोई मेरा हमज़बाँ नहीं मिलताइससे बाद निदा फ़ाज़ली दो-चार हुए, ज़बाँ मिली है मगर हमज़बाँ नहीं मिलताकई तरह के संघर्षों के इस समय कई आवाज़ें गुम हो रही हैं. ऐसे ही स्वरों का एक मंच बनाने की अदना सी कोशिश है हमज़बान। वहीं नई सृजनात्मकता का अभिनंदन करना फ़ितरत.

मंगलवार, 27 अगस्त 2013

हे कृष्ण कन्हैया, नन्द लला! अल्लाहो ग़नी, अल्लाहो ग़नी !!



फ़ोटो वरिष्ठ पत्रकार क़मर वहीद नक़वी की फेसबुक वाल से उड़ाया








































हिंदुस्तान। ऐसा मुल्क जो तमाम विपरीत झंझावतों के अपने विविध रंगों में आज भी मुस्कुरा रहा है। बक़ौल इक़बाल, यूनान, मिस्र, रोमां सब मिट गए जहां से/ बकाई मगर है अब तक हिन्दुस्तां हमारा ! दरअसल इसकी आबोहवा ही ऐसी है कि हर कोई यहीं का होकर रह जाता है। बनारस की सुबह और लखनऊ की शाम किसे प्यारी न लगे! सबब यही है कि संत-कवि बुल्ले शाह कहता है, होरी खेलूंगी कह कर बिस्मिल्लाह! बात होली की हो तो मथुरा और बृन्दावन का ज़िक्र सहज ही आ जाता है। कृष्ण और राधा की प्रेम-कथा को एतिहासिक लोकप्रियता हासिल है। उनके दीवानों में ढेरों मुस्लिम कवि हुए हैं। युवा लेखक कश्यप किशोर मिश्र लिखते हैं,  'सूफीवाद में अमूर्त रूप से प्रेम के प्रतीक के रूप में कृष्ण खूब चित्रित हुए, चाहे वो मंझन रहे हो, या कुतुबन या फिर उस्मान, अगर उनकी कृतिया रसीली है, तो उसके मीठे का स्रोत कृष्ण रहे है |'
         

सैयद इब्राहीम उपनाम रसखान  कृष्ण भक्ति में सरे-फेहरिस्त हैं। उन्हें  रस की ख़ान ही कहा जाता है। इनके काव्य में भक्ति, श्रृगांर रस दोनों प्रधानता से मिलते हैं।  मध्यकालीन कृष्ण-भक्त कवियों में रसखान की कृष्ण-भक्ति निश्चय ही सराहनीय, लोकप्रिय और निर्विवाद है। कृष्ण-भक्ति और काव्य-सौंदर्य की दृष्टि से उनके काव्य-ग्रन्थ  'सुजान रसखान' और 'प्रेमवाटिका' को देखा जा सकता है। कृष्ण भक्तों में रसलीन रीति काल के प्रसिद्ध कवियों में से एक हैं। उनका मूल नाम 'सैयद ग़ुलाम नबी' था। उनके अलावा मालिक मोहम्मद जायसी, नवाब वाजिद अली शाह, नजीर अकबराबादी आदि अनगिनत रचनाकार उर्दू और हिंदी में हुए हैं, जिन्हें कृष्ण ने आकर्षित किया है।

 नजीर अकबराबादी  अपनी लंबी नज़्म में कृष्ण भक्ति में किस तरह लीन  हैं :

हे कृष्ण कन्हैया, नन्द लला !
अल्लाहो ग़नी, अल्लाहो ग़नी ।

मुट्ठी भर चावल के बदले ।
दुख दर्द सुदामा के दूर किए ।
पल भर में बना क़तरा दरिया ।
ऐ सल्ले अला,
अल्लाहो ग़नी, अल्लाहो ग़नी ।
मन मोहिनी सूरत वाला था ।
न गोरा था न काला था ।
जिस रंग में चाहा देख लिया ।
ऐ सल्ले अला,
अल्लाहो ग़नी, अल्लाहो ग़नी ।

मुग़ल बादशाह  औरंगजेब  बदनाम -ज़माना है। लेकिन इधर उनकी  भतीजी ताज बेगम कृष्ण की मीरा बन बैठी।जिनका काल 1644 ई. माना जाता है,  उन का एक प्रसिद्ध पद है:

बड़ा चित्त का अड़ीला, कहूं देवतों से न्यारा है।
माल गले सोहै, नाक-मोती सेत जो है कान,
कुण्डल मन मोहै, लाल मुकुट सिर धारा है।
दुष्टजन मारे, सब संत जो उबारे ताज,
चित्त में निहारे प्रन, प्रीति करन वारा है।
नन्दजू का प्यारा, जिन कंस को पछारा,
वह वृन्दावन वारा, कृष्ण साहेब हमारा है।।
सुनो दिल जानी, मेरे दिल की कहानी तुम,
दस्त ही बिकानी, बदनामी भी सहूंगी मैं।
देवपूजा ठानी मैं, नमाज हूं भुलानी,
तजे कलमा-कुरान साड़े गुननि गहूंगी मैं।।
नन्द के कुमार, कुरबान तेरी सुरत पै,
हूं तो मुगलानी, हिंदुआनी बन रहूंगी मैं।।

1694 ई  के दौर की  एक कवियत्री थी शेख, उनका पूरा नाम अज्ञात है। इनकी अधिकांश रचना एँ शृंगाररस की हैं, जिनमे से कुछ में कृष्ण से लौकिक प्रेम प्रदर्शन भी है:

मधुबन भयो मधु दानव विषम सौं
शेख कहै सारिका सिखंड खंजरीठ सुक
कमल कलेस कीन्हीं कालिंदी कदम सौं

रसखान का लहजा देखिये:
गावैं गुनि गनिका गंधरव औ नारद सेस सबै गुन गावत।
नाम अनंत गनंत ज्यौं ब्रह्मा त्रिलोचन पार न पावत।
जोगी जती तपसी अरु सिध्द निरन्तर जाहि समाधि लगावत।
ताहि अहीर की छोहरियाँ छछिया भरि छाछ पै नाच नचावत।

हिन्दुस्तानी ज़बान के पहले कवि माने जाने वाले अमीर खुसरो। आप संत हज़रत निज़ाम उद्दीन के भक्त थे।  लेकिन जब उनके प्रेम में लिखते हैं, तो कान्हा उनके ज़ेहन में नृत्य कर रहे होते हैं:  

बहुत कठिन है डगर पनघट की।
कैसे मैं भर लाऊं मधवा से मटकी
मेरे अच्छे निजाम पिया।
पनिया भरन को मैं जो गई थी
छीन-झपट मोरी मटकी पटकी
बहुत कठिन है डगर पनघट की।
खुसरो निजाम के बल-बल जाइए
लाज राखी मेरे घूंघट पट की
कैसे मैं भर लाऊं मधवा से मटकी
बहुत कठिन है डगर पनघट की।




भास्कर के  28 अगस्त 2013 के अंक में (झारखंड के संस्करणों में प्रकाशित )       

Digg Google Bookmarks reddit Mixx StumbleUpon Technorati Yahoo! Buzz DesignFloat Delicious BlinkList Furl

7 comments: on "हे कृष्ण कन्हैया, नन्द लला! अल्लाहो ग़नी, अल्लाहो ग़नी !!"

सरिता भाटिया ने कहा…

आपकी यह रचना कल बुधवार (28-08-2013) को ब्लॉग प्रसारण : 99 पर लिंक की गई है कृपया पधारें.
सादर
सरिता भाटिया

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार ने कहा…




_/\_
जयश्री कृष्ण !
श्री कृष्ण जन्माष्टमी की बधाइयां और शुभकामनाएं !
✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿



ब्लॉग बुलेटिन ने कहा…

पूरी ब्लॉग बुलेटिन टीम की ओर से आप सभी को श्री कृष्णजन्माष्टमी की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनाएँ !
ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन कृष्ण जन्म सबकी अंतरात्मा में हो मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

मदन मोहन सक्सेना ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
sushma 'आहुति' ने कहा…

खुबसूरत अभिवयक्ति......श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें......

sushma 'आहुति' ने कहा…

खुबसूरत अभिवयक्ति......श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें......

syed Affan ने कहा…

Saar chezen theek hain , Lekin Pahel Hamara mazhab Baad Men Hum hain, ہُوَ الَّذِیۡۤ اَرۡسَلَ رَسُوۡلَہٗ بِالۡہُدٰی وَ دِیۡنِ الۡحَقِّ لِیُظۡہِرَہٗ عَلَی الدِّیۡنِ کُلِّہٖ ۙ وَ لَوۡ کَرِہَ الۡمُشۡرِکُوۡنَ

Please add me on Skype: syed.affan.quadri or contact on (09911024715)

English- Arabic-Urdu-Hindi – Farsi - Punjabi Language Translator- Medical-Delegation interpreter- Travel Guide- online teaching, Data Entry, web searcher, visa. Passport, all documents services provider & agency

All Indian language Translation, Localization, self-employee, Interpretation, tuition, Editing & Proofreading, service providing, agency

Contact us:

Mob: 91-9911024715

yahoomail: syed_quadrin@yahoo.co.in

Skype: syed.affan.quadri

Gtalk: syedaffanquadri@gmail.com

http://english-arabitranslation.blogspot.com
http://urduenglisharabictranslation.blogspot.com

एक टिप्पणी भेजें

रचना की न केवल प्रशंसा हो बल्कि कमियों की ओर भी ध्यान दिलाना आपका परम कर्तव्य है : यानी आप इस शे'र का साकार रूप हों.

न स्याही के हैं दुश्मन, न सफ़ेदी के हैं दोस्त
हमको आइना दिखाना है, दिखा देते हैं.
- अल्लामा जमील मज़हरी

(यहाँ पोस्टेड किसी भी सामग्री या विचार से मॉडरेटर का सहमत होना ज़रूरी नहीं है। लेखक का अपना नज़रिया हो सकता है। अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का सम्मान तो करना ही चाहिए।)